भिखारी मुक्त जयपुर उद्देश्य वाले सर्वे में आये चौंकाने वाले आंकड़े सामने, आप भी जानकर हैरान हो जाएँगे

By | अगस्त 28, 2020
भिखारी मुक्त जयपुर उद्देश्य वाले सर्वे में आये चौंकाने वाले आंकड़े सामने, आप भी जानकर हैरान हो जाएँगे
भिखारी मुक्त जयपुर उद्देश्य वाले सर्वे में आये चौंकाने वाले आंकड़े सामने, आप भी जानकर हैरान हो जाएँगे

हाल ही में जयपुर शहर में भिखारी मुक्त जयपुर बनाने के उद्देश्य से पुलिस कमिश्नरी द्वारा सर्वे किया गया था | सर्वे में आये आंकड़ों को देखकर आपकी आँखे फटी की फटी रह जाएँगी | आपको चिंतन करने पर विवश कर देने वाले परिणाम निकलकर आये हैं | आपने कभी नहीं सोचा होगा की हमारे देश के लोग ऐसी जिन्दगी भी जीते होंगे | सरकार को भी सोचने पर मजबूर कर देने वाले आंकड़े सामने आये हैं | कब तक देश की स्थिति ऐसी बनी रहेगी ?आखिर बेरोजगारी कब तक खत्म होगी ? जीवन यापन करने के लिए कितना कष्ट उठाना पड़ता है ? क्या शिक्षा से रोजगार प्राप्त नहीं किया जा सकता ? सरकार बेरोजगारी के लिए क्यों नहीं ले रही है सटीक एक्शन ? इस प्रकार के बहुत सारे सवाल को जन्म देने वाले परिणाम निकले हैं इस सर्वे से |
आएये जानते हैं ऐसा क्या था सर्वे के आंकड़ों में –

भिखारी मुक्त जयपुर सर्वे : शिक्षा के आंकड़े

जयपुर शहर में 1662 बिखारियों पर सर्वे किया गया था जिसमे से 5 बिखारियों द्वारा पीजी ( पोस्ट ग्रेजुएट/ स्नातकोतर ) की डिग्री की हुयी थी | 193 बिखारी विद्यालयी शिक्षा पूर्ण किये हुए थे | 39 बिखारी साक्षर थे तथा 903 बिखारी निरक्षर थे | आपने कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा की पीजी की डिग्री वाले व्यक्ति भी इतना मजबूर हो जाते हैं , जिन्हें दो वक्त के खाने के लिए भीख मांगनी पड़ जाती है | इस प्रकार के आंकड़े देश की शिक्षा व्यस्था के स्वरुप पर भी निशाना साधते हैं | क्या शिक्षा व्यवस्था के स्वरुप में कौशल विकास की विषय वस्तु नहीं है ? क्या किताबी ज्ञान का उपयोग दैनिक जीवन में नहीं किया जा सकता ? इस प्रकार के बहुत सारे सवाल इस सर्वे के बाद उभरकर आये हैं |

बिखारियों की शिक्षा पीजीस्कूली शिक्षा साक्षरनिरक्षरकुल संख्या
बिखारियों की संख्या 5193399031662

भिखारी मुक्त जयपुर सर्वे : बिखारियों के मत

पुलिस कमिश्नरी जयपुर द्वारा सर्वे के दौरान सभी बिखारियों से उन्हें नौकरी के लिए मौका देने के अवसर मुहैया करवाने के लिए उनकी राय के बारे में पूछने पर रोचक जवाब दिए गए | 1662 में से सिर्फ 117 बिखारी ही ऐसे थे जिनको किसी भी कार्य करने में रूचि नहीं थी , तो इससे साफ़ जाहिर होता है कि उनकी कार्य करने के इच्छा और योग्यता अभी भी मौजूद है सिर्फ उन्हें अवसर नहीं दिए गए हैं | उनकी प्रतिभा किसी कारणवश दबकर छिपी रह गयी है|

बिखारियों की संख्या रुचिपूर्ण कार्यक्षेत्र
27शिक्षा का क्षेत्र
117कोई भी कार्यक्षेत्र
160उदासीन/ निरुत्साहित
1996मजदूरी, कैटरिंग , होटल हस्तकला तथा अन्य कार्यक्षेत्र

भिखारी मुक्त जयपुर सर्वे : बिखारियों के धर्म के आंकड़े

हाल ही में बिखारी मुक्त जयपुर शहर बनाने के उदेश्य से किये गए सर्वे में बिखारियों के धर्म के आंकड़े इस प्रकार सामने आये थे | सर्वे में 223 महिला वर्ग बिखारी थीं तथा अन्य पुरुष वर्ग के बिखारी थे | यहाँ हम सभी विजिटर्स के लिए एक बात स्पष्ट कर देना चाहते हैं कि हमारा किसी भी धर्म विशेष से जुड़ाव नहीं है | हम आपके सामने केवल सर्वे से प्राप्त आंकड़ो को रख रहे हैं अतः किसी भी प्रकार की धार्मिक भ्रान्ति से दूर रहें-

बिखारियों का धर्म हिन्दूमुश्लिमसिखईसाईजैनधर्म नहीं बताने वाले
बिखारियों की संख्या 101611164223

भिखारी मुक्त जयपुर सर्वे : बिखारियों आयु सीमा

जयपुर शहर में किये गए सर्वे में अधिकांश बिखारियों की आयु सीमा 31 से 40 वर्ष थी |लेकिन इनमे से 80 बिखारी ऐसे थी जिनकी अवस्था 11-20 वर्ष थी | जिस अवस्था में बच्चे विद्यालय जाते हैं , उस अवस्था में वे बच्चे भीख मांगकर अपनी रोजमर्रा की जिन्दगी काट रहे थे-

आयु सीमा 10 वर्ष तक 11-20 वर्ष 31-40 वर्ष 41-50 वर्ष
बिखारियों की संख्या5280278259

भिखारी मुक्त जयपुर सर्वे : बिखारियों के स्थान

सर्वे में अधिकांश बिखारी राजस्थान से थे जिनकी संख्या 809 थी | मध्यप्रदेश, उतरप्रदेश , बिहार , पश्चिम बंगाल , गुजरात , महाराष्ट्र , तमिलनाडु , हिमाचलप्रदेश , कर्नाटक, केरल आदि राज्यों से भी बिखारियों की संख्या दर्ज की गयी है | इन सभी राज्यों से बिखारियों की संख्या इस प्रकार है-

राज्य का नामबिखारियों की संख्या
राजस्थान809
उतरप्रदेश95
मध्यप्रदेश63
बिहार45
पश्चिम बंगाल37
गुजरात25
महाराष्ट्र15
केरल2
कर्नाटक2
हिमाचलप्रदेश1
तमिलनाडु1

यह सर्वे सभी बिखारियों के राज्यों द्वारा पुनर्वास के उद्देश्य से किया गया था | राजस्थान विधान सभा ने बिखारियों के पुनर्वास के बिल को पास कर दिया है | सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के राज्य मंत्री राजेन्द्र सिंह यादव ने इस बिल को चर्चा के लिए सदन में पेश किया था | सदन ने इस बिल को सार्वजानिक करने से शख्त रूप से मन कर दिया है | उम्मीद है सरकार द्वारा जल्द ही बिखारियों के लिए मुलभुत आवश्यकता की पूर्ति करने के पुख्ता इंतजाम किये जायेंगे |

जानकारी अच्छी लगी हो तो शेयर करें , इस प्रकार की रोचक जानकारी , सरकारी योजना , सरकारी जॉब, एडमिट कार्ड , सरकारी रिजल्ट आदि की जानकारी प्राप्त करने के लिए बने रहें हमारे साथ तथा नोटिफिकेशन को अलाऊ कर लें ताकि ताजा पोस्ट की अपडेट आप तक पहुँचती रहे | धन्यवाद !

Author: Mohit

हिंदी सरकारी योजना ब्लॉग में आपका स्वागत है इस ब्लॉग हम हम हर रोज नई व पहले से शुरू कल्याणकारी जन हित Sarkari Yojana कि पोस्ट करते है अगर आपको सरकारी योजना कि जानकारी सही सही चाहिय तो आप हमारे इस ब्लॉग को सेव कर सकते है Sarkari Yojana , Goverment Scheme , Pradhanmantri yojana, PM Modi Yojana, My Name - Jasveer Gansad - में राजस्थान चुरू जिले कि सरदारशहर तहसील का मेलूसर ग्राम पंचायत का निवासी हु और आपको बता दू मुझे सरकारी योजना का 5 वर्ष नॉलेज है 2015 में मैंने सरकारी व गैर सरकारी कार्य का कॉमन सर्विस सेंटर खोला था जिसमे ऑनलाइन सरकारी योजनाओ के फॉर्म भरना व अन्य सरकारी व गैर सरकारी कार्य करता था जिससे मुझे प्रधानमंत्री द्वारा शुरू सभी सरकारी योजनाओ कि जानकारी है इसके अलावा हम लोग सरकारी ऑफिसियल वेबसाइट हर रोज सर्कार द्वारा जारी निर्शो के अनुसार इस ब्लॉग में योजनाओ के बारे में लिखते है

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *