Difference between PUBG mobile And PUBG : क्या अंतर है PUBG तथा PUBG मोबाइल में , यहाँ जानिए

By | सितम्बर 3, 2020

Difference between PUBG mobile And PUBG : PUBG तथा PUBG मोबाइल गेम
में बहुत बड़ा अंतर है | भारत सरकार ने यूजर्स तथा राष्ट्र के लिए साईबर सुरक्षा के दृष्टिकोण
से भारत में चीनी अप्स को प्रतिबंधित किया है | भारत सरकार द्वारा प्रतिबंधित इन अप्प्स
में 118 अप्प्स की सूचि है , जिनमें सबसे लोकप्रिय गेम PUBG मोबाइल भी शामिल है |
इन अप्प्स के माध्यम से डाटा की चोरी करने की आशंका तथा डिजिटल वार का खतरा
महसूस करते हुए भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने इनको प्रतिबंधित करने के लिए सरकार को
सूचित किया था | सरकार ने इनको राष्ट्रीय सुरक्षा के खतरा मानते हुए बैन कर दिया था|
लेकिन सबसे अधिक चर्चा PUBG पर की जा रही है |

Advertisement
Difference between PUBG mobile And PUBG : क्या अंतर है PUBG तथा PUBG मोबाइल में , यहाँ जानिए
Difference between PUBG mobile And PUBG : क्या अंतर है PUBG तथा PUBG मोबाइल में , यहाँ जानिए

PUBG तथा PUBG मोबाइल में अंतर

Advertisement

जब से भारत सरकार ने चीनी ऐप्स को भारत में बहिष्कार करना शुरू किया है , बहुत सारे
लोग PUBG के बैन होने के बारे में चिंचित थे , क्योंकि उनको हर रोज चिकन डीनर करने
की आदत पड़ गयी थी | भारत में टिक टोक के बैन होने पर बहुत बवाल हुआ था , उस
समय PUBG के समर्थक खुश नजर आ रहे थे लेकिन अब PUBG बैन हुआ है तो टिक टोक
के फैन्स बहुत खुश हैं |सामान्यतः सभी लोग PUBG मोबाइल तथा PUBG को एक सामान
ही समझते हैं  लेकिन PUBG मोबाइल ही बैन हुआ है PUBG नहीं | आएये जानते हैं इन दोनों
के बिच क्या अंतर है-

Difference between PUBG mobile And PUBG

अगर गेम्स में पब्लिशर के दृष्टिकोण से देखा जाये तो PUBG मोबाइल गेम का पब्लिशर
टेंसेंट (Tencent) है , जो कि एक चीनी सर्वर पर आधारित है | लेकिन PC के लिए PUBG
गेम का पब्लिशर क्रॉप (Crop ) है , जो कि कोरियन कंपनी द्वारा संचालित किया जाता है |
यही कारण है की भारत में PUBG मोबाइल को प्रतिबंधित किया गया है लेकिन PUBG को नहीं |

PUBG मोबाइल प्रतिबंधित लेकिन PUBG नहीं , फिर क्या समस्या ?

PUBG मोबाइल गेम्स को ही बैन किया गया है , PUBG को नहीं , जिसका कारण ऊपर दिया
गया है | लेकिन फिर भी गेम खेलने वाले लोग सरकार द्वारा लिए गए इस फैसले के
प्रति नाराजगी जता रहे हैं , क्या कारण है हो सकता है , आएये जानते हैं –

सबसे बड़ा कारण है दुनिया में सबसे अधिक कार्य मोबाइल में होता है | चाहे गेम्स हो ,
वेबसाइट हो, या अन्य कार्य | भारत में भी PUBG गेम को मोबाइल में खेलने वालों की
संख्या 70% थी | तो इससे साफ जाहिर है , अब वे नहीं खेल पा रहे हैं अतः उनको सरकार
का फैसला गलत लग रहा है |

PUBG मोबाइल प्रतिबंधित करने पर क्या हुआ ?

PUBG मोबाइल अप्प के बैन होने पर बहुत सारे PUBG के फैन्स नाखुश हैं | सरकार के खिलाफ
मिम्स भी बनाये जा रहे हैं , बहुत सारे फैन्स इसको फिर से शुरू करने की मांग कर रहे हैं |
मोदी द्वारा मन की बात पर एक विडियो को नापसंद करने वालों की संख्या 1.1 मिलियन हो गयी
है |हालाँकि विडियो को इतना नापसंद करने की वजह बहुत सारी हैं जिनमे से सबसे अधिक
आक्रोस JEE NEET के लिए किया गया है | दूसरा कारण बढ़ती बेरोजगारी है जिसके लिए सरकार
द्वारा कोई विशेष ध्यान नहीं दिया जा रहा है | तीसरी वजह सरकार द्वारा reet की भर्ती को
लम्बे समय तक संपन्न नहीं करवाना है |PUBG के बैन होने पर सोशल मिडिया के ट्विटर हेंडल
पर #PUBG ट्रेंड करने लग गया था |

118 प्रतिबंधित ऐप्स की सूचि

भारत सरकार द्वारा बुधवार को सायंकाल के समय 118 चीनी अप्स को प्रतिबंधित किया गया था
, जिसमे सर्वाधिक लोकप्रिय गेम मोबाइल PUBG का नाम भी शामिल है | सरकार द्वारा यह
फैसला डिजिटल सुरक्षा के लिए लिया गया था | सुरक्षा एजेंसियां मानती हैं कि ये अप्प्स यूजर्स के
डाटा को सेव करती हैं तथा इनको हैकर कंपनीज के साथ शेयर किया जाता है | इन 118 अप्स की
सूचि निचे दी गयी लिंक पर क्लिक करके देख सकते हैं |

list of 118 baned apps

चीनी का हर तरह से बहिष्कार

हालाँकि सरकार ने 118 अप्प्स के प्रतिबन्ध करने से पहले भी 59 चाइनीज ऐप्स बैन किये गए
थे जिसमे सबसे अधिक प्रचलित ऐप टिक टोक था , जिसको लेकर बहुत सारे फैन्स गुस्सा भी
हुए थे |जब से भारत और चीन की सीमा पर विवाद का मामला शुरू हुआ है तब से भारत सरकार
चीन के भारत में हर तरह के फायदों को हटा रहा है |यह चीन विरोध का मामला  पिछले दिनों ही
आईपीएल 2020 के आयोजन में देखने को मिला था | भारत में आईपीएल 2020 की टाइटल
स्पोंसरशिप
में से चीनी कम्पनी विवो को हटा दिया था इसकी जगह ड्रीम 11 को दी गयी थी |
हालाँकि विवो अगर चाहे तो वापिस आ सकता है | विवो के आने पर ड्रीम 11 को हटना पड़ेगा |
मोदी सरकार की चीन विरोधी रणनीति कारगर शाबित हो रही है |

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *